अनंत तस्‍वीरें दृश्‍यावलियां ख़बर ब्‍लॉग्‍स

आज मेरी मिठी का पहला जन्मदिन है


बेटियों के ब्लाग पर लिखे हुए मुझे लगभग साल भर होने जा रहा है. पीछले साल मैं अपनी बेटियों के विषय में लिखी थी. और आज पुन अपनी बेटियों के बारे में लिखने के लिए उत्सुक हूं. मन में तूफान उमड़ घुमड़ रहा है. यह तूफान पूरी तरह से खुशी की है और अपने को श्रेष्ठ समझने की.
मेरी बड़ी बेटी श्रुति के छह साल बाद मुझे दूसरी संतान सुख की प्राप्ती हुई. अति सुंदर, प्यारी, मोहक औऱ ना जाने शब्द ना खत्म होने वाली बिटिया की मैं मां बन गई। बिटिया के जन्म से घर में कहीं कोई अफसोस की लहर नहीं थी. कदाचित मन में हो रही तूफान को घर के लोग दबा रहें हो पर मुझ तक बात नहीं पहुंच पाती. यह मेरा सौभाग्य रहा कि मुझे कहीं से ताने बाने सुनने को नहीं मिले.
दिन गुजरते रहे हांलाकि हमने उसके आने की खुशी में कोई पार्टी नहीं की पर हर दिन हमारे घर में उसके आने के बाद उत्सव सा माहोल बना रहा. हम दिन दूनी रात चौगुनी प्रगती करते रहे. सुख और शांति तो हमलोगों के मन में पहले से थी पर अब सुकून का एहसास भी होने लगा था. उसके पैर इतने अच्छे कि हमलोग अपने नए घर में शिफ्ट कर गए.
मेरे सपने थे कि मैं नए घर में अपनी बिटिया को लाल रंग के वॉकर पर घूमती देखूं. और यह भी सपना सच हो गया. वह ज्योंहि बैठने लगी हमलोग नये घर में आ गए थे.

उसकी प्यारी हंसी..... कुछ नहीं कह पाऊंगी.

नाम हमलोगों ने उसका घर पर मिठी रखा है. और बाहर का नाम अनुभूति.
नाम को लेकर काफी लोग उसे कुछ भी कहते हैं. एक तीखी और एक मिठी. सचमुच ऐसी ही है पर ऐसा कहना किसी को नहीं चाहिए. मेरी श्रुति को बुरा लगता है. श्रुति को पानीपत में उसका एक प्यारा सा दोस्त श्रुति प्रुति कहता था तो वह बहुत खुश होती थी. तो मेरी मिठी को खट्टी-मिठी, या मेथी या मिट्टी कहकर लोग प्यार से उसका नाम बिगाड़ते हैं. और वह बहुत शालीन है. जब से उसके पैर हुए हैं मतलब जब से वह चलना सीखी है बस चलती रहती है. दिनभर चलती रहेगी. औऱ कुछ कुछ सामान छुती रहेगी. बर्तन फैला कर खेलेगी, आलमारी से कपड़े निकाल कर इधर उधर बीखेरेगी, और ना जाने हमारा घर कई सामानों से बीखरा रहेगा. किसी की अगर चीज नहीं मिल रही हो तो सबका पहला शक मिठी पर ही जाता है. चार्जर कहां है भाई- तो पलंग के पीछे होगा, मिठी का पैंट नहीं मिल रहा वह भी पलंग के पीछे, सुबह का अखबार भी प्राय वहीं मिल जाएगा. मोबाइल बजता हो और कहीं ना मिले तो हमपहले पलंग के नीचे ही खोजते हैं.
उसे मैं कहीं ले जाती हूं तो मुझे बड़ा फक्र होता है. अब मुझे जाननेवाले कई लोग सोचेंगे कि क्या मैं अपनी बड़ी बेटी को भूल गई हूं. तो भाई कतई नहीं. मेरी दोनो बेटियां मेरी दो मजबूत बाजू है. मुझे दोनो पर बड़ा गर्व है. श्रुति काफी तेज है दिमाग से और काफी उर्जावान. मिठी गंभीर है और अभी उसकी तेजी का पता नहीं चला है. मैं वैसी मां नहीं हूं कि बच्चे ने सक्रूड्राइवर क्या घूमा दिया तो कहने लगे अरे मेरा बच्चा तो इंजिनीयर बनेगा. मेरी श्रुति पढ़ाई में ड़ांस में बोलने में तेज है.
श्रुति स्कूल जाते समय कहते हुए जाती है कि आज मैं तेरा नाम रौशन कर के आऊंगी. मतलब की स्कूल में प्रेयर के समय कोई भी मोरल स्टोरी सुना कर आऊंगी. मैं उसे मोरल स्टोरी याद करवाती हूं और वह पांच मिनट तक स्टोरी सुना कर आती है.
आज मेरी बिटिया का जन्मदिन है. वह पूरे साल भर की हो गई. प्यारी सी, खूबसुरत सी मेरी बेटी कुछ वर्षो में यूं ही बर्थडे मनाते हुए मुझ से दूर चली जाएगी. मुझे पता है ऐसा सब के साथ होता है। .....
सो इसलिए मैं आज का दिन भरपूर जीऊंगी. हर दिन उसका मेरे साथ किमती रहेगा. वह मेरे पास अपने व्यक्तिव विकास के लिए है उसके बाद तो उसे खुद ही अपना जीवन को मुकाम पर लाना है।

18 comments:

अंशुमाली said...

मीठी को बधाई। शुभकामनाएं। मीठी यूंही हंसती और मुस्कुराती रहे।

अनिल कान्त : said...

मीठी को जन्म दिन की बधाई ....वह सदैव खुश रहे

seema gupta said...

मीठी को जन्म दिन की बधाई शुभकामनाएं

regards

संगीता पुरी said...

मीठी को बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं....बहुत प्‍यारी हंसी है इसकी।

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...

मीठी को जन्म दिन की बधाई शुभकामनाएं..

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...

मीठी को जन्म दिन की बधाई शुभकामनाएं..

Shikha Deepak said...

आपको और मीठी को बधाई। इश्वर आपके इस दिन को यादगार बनाए। ढेरों शुभकामनाएं।

रवीन्द्र प्रभात said...

मीठी को जन्म दिन की बधाई शुभकामनाएं

मुंहफट said...

लड़कियां
रोज सुबह देहरी तक
झाड़ू-पोंछा लगाती हैं,
और घर हो जाती हैं लड़कियां.

लड़कियां
हंसती हैं और घूरने लगती हैं.

लड़कियां
कभी छोटी नहीं होतीं
बड़ी-बड़ी बातें करती हुईं लड़कियां.

छोटी-छोटी बातें करती हैं
लड़कियां
और बड़ी हो जाती हैं.
मेरी नन्ही-सी रचना मीठी-मीठी सी मीठी के नाम. जन्मदिन पर बधाई.

Sanjay Mishra said...

Mithi ke janmdin par hardik shubhkamnayen. Aapke dono betiyo (dono Bajuon) ki tarah aapki bhi tarakki/unnati badhti jaye. Saphalta dono betiyo ka dosra naam sabit ho.

Sanjay Mishra

Sanjay Mishra said...

Mithi ke janmdin par hardik shubhkamnayen. Aapke dono betiyo (dono Bajuon) ki tarah aapki bhi tarakki/unnati badhti jaye. Saphalta dono betiyo ka dosra naam sabit ho.

Sanjay Mishra

jitendra said...

मीठी को जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई

काजल कुमार Kajal Kumar said...

मीठी का पूरा जीवन भी मीठा रहे ... ढेरों मंगल कामनाएं.

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

बिटिया को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाऎं......

डॉ .अनुराग said...

मीठी को जन्म दिन की बधाई ....वह सदैव खुश रहे

Priyanka Singh Mann said...

puneeta ji hardik shubhkamnaey appki bti ke jnamdin pe..bada accha laga aapka likha hua padh kar..abhi bhi log hain jo betiyon ko sahejana jaante hai..khud bhi yahi chahti hoon ki jab maa banun yo pehli santan beti hi ho..

bhawna said...

bahut bahut badhai meri taraf se bhi dono betiyon ko dulaar kariyega .

Dr. Kuldeep Singh Deep said...

barha kam kar rahe ho
lage raho