अनंत तस्‍वीरें दृश्‍यावलियां ख़बर ब्‍लॉग्‍स

बेटियों की ललाई

बेटियों कि आस्था,

बेटियों पर विश्वास

बनता है एक सहज पुल

अचानक जब बेटी अपनी दहलीज लाँघ पार कर अति है सात दरियाओं का अनंत उद्गार।

बेटियाँ जब होती हैं, मन मलिन कर लेते हैं

पर भर आती हैं आँखे,

जब पार कर लेती हैं वे सूरज की ऊम्चाइयां

बेटी को अब मन नही करता

बोलूँ उसे दुर्गा, सीता, सरस्वती

छोर चुकी है वह अब इन प्रतिमानों को बहुत पीछे

अपने यहाँ एक खली ग्लास है

जिसमे से छलकती है उसकी सूरत

कुछ पहचानी सी

कुछ कुछ अनजानी सी

मन कबतक धरे धीर

बेटियों का आगमन होता रहे जलस्दी ज़ल्दी

भरे वह अपनी हँसी से मान का अंचल,

पिटा का दामन

बहन की मुस्कान

भाई की बने जान

बेतिया अब सगार पुत्र भी नही

वे हैं अनंत आकाश

हर सीमा के आर-पार।

2 comments:

jayanti said...

vibha ji apki kavita kaphi achchhi hai apne sach hi kah hai ki betiyna jab tehlej par kar dete hi to durg ka roop nahi balki wo ek putna ban jate hi. vibha ji aaj hi mai ek khabbar dekh rahi thi ki faridadab mai ek ladki ne kise par tejab fik diya ye dekh karmujhe esa lag raha tja ki rajya sabha mai mahilo ke arakshan ki liye kitna babal ho jabkies khabbar ke mutabik to mahilo ko arakshan ki jarurat hi nahi hi. wo to puroosho se kishi bat mai peche nahi hi. ap se ek request hi mujhe blog banana sikhayegekya.

Vibha Rani said...

bahut aasaan hai. kabhi bhi aap mujhe personally sampark karem. vaise bahut achchha laga aap ko yaha dekhake.